चेक बाउंस हुआ तो होगी 2 साल की जेल, संसद में पारित हुआ बिल

Must Read

CAA: क्या है और क्यों हो रहा है इसे लेकर बवाल शाहीन बाग में, समझे आसान शब्दो में

देश में घुसपैठियों का मामला काफी समय से चर्चा का विषय है। घुसपैठियों को देश से बाहर...

454 साल के बाद 6 राशियों पर प्रसन्न हुए महादेव, 13 जनवरी को बदलेगी किस्मत

छात्रों का पढाई की ओर मन आकर्षित होगा, आपका व्यवसाय पहले से अधिक अच्छा चलेगा। बिजनेस में...

चेक बाउंस खबर अपडेट: अब अगर आपके बैंक खाते में पैसा नहीं है और इसके बावजूद आप चेक जारी करते हैं तो सतर्क हो जाएं, क्योंकि गुरुवार को संसद से एक ऐसा विधेयक पारित हुआ है जिसमें इस मामले में जुर्माने का प्रावधान है. इस बिल के तहत चेक बाउंस के आरोपी को इसकी राशि का 20 फीसदी हिस्सा अदालत में अंतरिम मुआवजे के तौर पर जमा कराना होगा.

विधेयक में चेक बाउंस मामलों के दोषियों को 2 साल तक की सजा का प्रावधान है. चेक बाउंस होने की स्थिति में चेक प्राप्तकर्ता को और अधिक राहत प्रदान करने वाला ‘परक्राम्य लिखत (संशोधन) विधेयक, 2017 (नेगोशियेबिल इंस्ट्रूमेंट अमेंडमेंट बिल) को आज राज्यसभा में चर्चा के बाद ध्वनिमत से मंजूरी दी गई जबकि यह बिल लोकसभा से पहले ही पारित हो चुका है.

चेक बाउंस, cheque bounce, cheque bounce law in india

विधेयक पर चर्चा का जवाब देते हुए वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ल ने कहा कि समय-समय पर संबंधित कानून में संशोधन होता रहा है और जरूरत पड़ने पर आगे भी ऐसा होगा. उन्होंने कहा कि इस संशोधन विधेयक में प्रावधान किया गया है कि चेक बाउंस होने की स्थिति में आरोपी की तरफ से पहले ही चेक पर अंकित राशि की 20 फीसदी रकम अदालत में जमा करानी होगी.

बिल में प्रावधान है कि अगर निचली अदालत में फैसला आरोपी के खिलाफ आता है और वह ऊपरी अदालत में अपील करता है तो उसे फिर से कुल राशि की 20 फीसदी रकम अदालत में जमा करानी होगी. मंत्री ने उम्मीद जताई कि इस प्रावधान की वजह से चेक बाउंस के मामलों पर अंकुश लगेगा और अदालतों पर चेक बाउंस के मुकदमों का बोझ कम होगा.

Sponsored link: StatusYard.com

चेक बाउंस बैंकों की साख का सवाल

चेक बाउंस, cheque bounce, cheque bounce law in india

वित्त राज्य मंत्री शुक्ल ने सदन को बताया कि मौजूदा समय में देश भर की निचली अदालतों में चेक बाउंस के करीब 16 लाख मुकदमे चल रहे हैं जबकि 32,000 मामले उच्च अदालतों तक गए हैं. इससे पहले विधेयक पेश करते हुए मंत्री ने कहा था कि चेक प्राप्तकर्ता को राहत देने के मकसद से इस विधेयक में पर्याप्त उपाय किये गये हैं. इससे चेक की विश्वसनीयता और साख बढ़ेगी.

इससे पूर्व विधेयक पर हुई चर्चा में भाग लेते हुए कांग्रेस के मधुसूदन मिस्त्री सहित कई सदस्यों ने मौजूदा विधेयक को अधिक प्रभावी बनाने के लिए इसमें सजा के प्रावधान को 2 से बढ़ाकर 4 साल करने और अंतरिम मुआवजा की राशि को 20 प्रतिशत से बढ़ाकर 30 से 40 प्रतिशत करने की मांग की ताकि चेक की वित्तीय साख को मजबूत किया जा सके और गलत मंशा से चेक जारी करने वालों पर रोक लगाई जा सके.

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Latest News

CAA: क्या है और क्यों हो रहा है इसे लेकर बवाल शाहीन बाग में, समझे आसान शब्दो में

देश में घुसपैठियों का मामला काफी समय से चर्चा का विषय है। घुसपैठियों को देश से बाहर...

Tanhaji aka Tanaji Latest Update About 4 Full HD Movie Download On Filmyzilla, Pagalworld, Tamilrockers & Torrent

TanhajiSynopsis:Tanhaji Malusare was an unsung warrior from the 17th century. His acts...

454 साल के बाद 6 राशियों पर प्रसन्न हुए महादेव, 13 जनवरी को बदलेगी किस्मत

छात्रों का पढाई की ओर मन आकर्षित होगा, आपका व्यवसाय पहले से अधिक अच्छा चलेगा। बिजनेस में आपको थोड़ा अधिक धन लाभ...

हर गर्भवती के लिए ऐसी ही एक पोटली जरूरी है; जानें क्या है इसमें

मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले में स्थित दानोत गांव की एक खबर देशभर में चर्चा का विषय बनी हुई है। दानोत गांव...

आर्मी चीफ़ मुकुंद नरवणे बोले- ‘अगर संसद कहे तो PoK पर करेंगे कार्रवाई’

भारत के नए आर्मी चीफ़ जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने शनिवार को नई दिल्ली में अपनी पहली प्रेस कॉन्फ़्रेंस की.

More Articles Like This